Share it

एम4पीन्यूज़।

वैसे तो हमारे भारत में ही कई ऐसे कुएं मिल जाएंगे जिनमें लोग मनोकामना-पूर्ति के लिए रुपए, पैसे और सोना-चांदी डालते हैं लेकिन इनमें अगर आप झांक कर देखेंगे तो ज्यादा पैसे नहीं मिलेंगे, यही कुछ सिक्के मिल जाएंगे। आज हम आपको रोम (इटली) के ट्रेवी फाउंटेन (Trevi Fountain) के बारे में बता रहें हैं जिसमें लोग वापस रोम घूमने कि अपनी मनोकामना पूर्ति के लिए सिक्के डालते हैं।

जानकर होंगे हैरान, इस फाउंटेन में टूरिस्ट डालते हैं करोड़ों!
जानकर होंगे हैरान, इस फाउंटेन में टूरिस्ट डालते हैं करोड़ों!

सिक्के डालने के पीछे है ये मान्यता :
रोम आने वाला हर टूरिस्ट ट्रेवी फाउंटेन में आकर सिक्का डालता है और इसके पीछे इन सबका मानना है कि ऐसा करने से उन्हें रोम घूमने का दुबारा मौका मिलता है। ट्रेवी फाउंटेन में सिक्का डालने का भी एक तरीका है। दरअसल इसके लिए आपको फाउंटेन कि तरफ पीठ करके खड़ा होना पड़ता है फिर सीधे हाथ में सिक्का लेकर उसे उलटे कंधे (Left Shoulder) के ऊपर ले जा के फेंकना पड़ता है।

वैसे तो यह परम्परा बहुत पुरानी है पर 1954 में आई एक हॉलीवुड मूवी ‘Three Coins In The Fountain’ जो कि इसी थीम पर आधारित थी, के बाद यह बहुत पॉपुलर हो गयी और इस फाउंटेन का बजट भी बढ़ गया।

जानकर होंगे हैरान, इस फाउंटेन में टूरिस्ट डालते हैं करोड़ों!
जानकर होंगे हैरान, इस फाउंटेन में टूरिस्ट डालते हैं करोड़ों!

जानिए इस फाउंटेन के बारे में :
ट्रेवी फाउंटेन रोम के ट्रेवी शहर में है। यह 85 फीट ऊंचा और 161 फीट चौड़ा है। यह दुनिया के सबसे खूबसूरत फाउंटेन में से एक है। इटेलियन आर्किटेक्ट निकोला साल्वी द्वारा इसे डिज़ाइन किया गया था तथा पिएत्रो ब्रैकी (Pietro Bracci) द्वारा बनाया गया था इसका निर्माण 1732 में शुरू होकर 1762 में समाप्त हुआ था।

जानकर होंगे हैरान, इस फाउंटेन में टूरिस्ट डालते हैं करोड़ों!
जानकर होंगे हैरान, इस फाउंटेन में टूरिस्ट डालते हैं करोड़ों!

इस फाउंटेन में डाले जाते हैं इतने सिक्के :
इसमें एक दिन में करीब 3000 यूरो के सिक्के डाले जाते हैं यानी कि 2,50,000 रुपए हर दिन या 9 करोड़ सालाना। दिन में एक बार फाउंटेन को बंद करके सारे सिक्के निकाले जाते हैं। ट्रेवी फाउंटेन में डाले गए सिक्के निकालकर स्थानीय गरीबों और बेघर लोगों कि भोजन व्यवस्था में लगाए जाते हैं।


Share it

By news

Truth says it all

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *